PIN Full Form In Hindi | PIN का फुलफॉर्म क्या है

PIN 

हम सभी ने PIN शब्द को बहुत बार सुना होगा मगर कभी इसका अर्थ जानने की कोसिस की है, आज हम विस्तार रूप से जाननेगे की पिन का फुलफॉर्म  क्या है ? और इसका पूरा मतलब क्या होता है। 

आज इंटरनेट का युग है, हम सभी को हर जगह PIN की जरुरत पड़ती है। इस लिए हम सभी को PIN का फुलफॉर्म पता होना चाइये। आज इस आर्टिकल के माध्यम से हम इसके फुल फॉर्म को जाननेगे। निचे दिए गए इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। 

PIN Full Form In Hindi
PIN Full Form In Hindi

पिन क्या होता है?  PIN Full Form In Hindi

पिन एक तरह का नंबर होता  है, जिससे हम बैंक, जगह, पोस्ट ऑफिस मे इस्तेमाल करते है । 

PIN का फुलफॉर्म क्या है ?

इंटरनेट पर वैसे तो बहुत सारे पिन के फुलफोरम मिल जाएंगे मगर पिन का असल मतलब 2 ही है । 

postal identification number postal index number 

ओर इसहे हम हिन्दी मे इस नाम से जानते है । 

व्यक्तिगत पहचान सँख्याडाक सूचक सँख्या

pin का क्या काम होता है ?

आज के वक्त मे pin सभी के लिए जरूरी है । स्कूल मे पढ़ रहे बच्चे हो या काम काजी सभी को पिन की जरूरत काही न काही पढ़ती है । 

पिन को हम अधिकतर हम अपने बैंक अकाउंट को सुरक्षित रखने के लिए रखते है, पिन ज्यादातर atm कार्ड के लिए बनाया जाता है । atm मे 4 डिजिट का नंबर दिया जाता है जिससे हम atm कार्ड को सुरक्षित रखते है । 

इसके अलावा हम पिन का इस्तेमाल किसी को कुछ भेजने के लिए करते है, क्युकी हर जगह का अपना area code होता है, जिसकी मदद से हम सही पते पर अपना समान भेज सकते है । 

वैसे तो बहुत सारे मतलब है लेकिन हम पिन का इस्तेमाल सिर्फ दो जगह ही करते है । 

atm pin का दूसरा अर्थ क्या हाई ? 

1 – atm पिन कोड । 
2 – atm पिन नंबर । 
3 – atm पासवर्ड । 
4 – atm सिक्युरिटी नंबर / atm सिक्युरिटी कोड  । 
5 – atm पिन / atm पर्सनल नंबर । 
पोस्टल pin का क्या मतलब होता है । 

लगभग सभी इंसान को पोस्टल पिन का मतलब पता होता है, मगर जिनको भी इसका पता नहीं है, उनके लिए ये बहुत महत्वपूर्ण जानकारी होगी, जैसे हुमने ऊपर पढ़ की “पोस्टल पिन इंडेक्स” पूरा नाम है पोस्टल pin का । 

मगर पोस्टल पिन किस काम आता है ?

जब भी हमे एक जगह से दूसरे जगह कुछ समान भेजना होता है उस वक्त हम उस जगह का पता भरते है, उस वक्त हम उस मे pin को भी भरते है क्युकी पिन हम उस जगह का सही पता बताता है । हर जगह का अपना पिन कोड होता है दूसरे सबदों मे कहे तो हर जगह को area के हिसाब से बाटा जाता है । 

उस वक्त पिन कोड मदद करता है सही जगह की तलाश करने के लिए । ओर पिन कोड की मदद से हम अपनी हर चीज सही जगह भेजते है । 

postal इंडेक्स नंबर को कितने नाम से जाना जाता है ?
POSTAL INDEXPIN CODE 
AREA CODEZIP CODE

बहुत सारे लोग इन सभी नामों मे कन्फ्यूज़ रहते है मगर इन सभी का अर्थ एक ही है, अगर आपको काही zip कोड डालने के लिए बोल जाए तो आप वहा पिन कोड डालेंगे ।  आशा हाई आप वहा कन्फ्यूज़ न हो । 

atm पिन कोड कितने डिजिट का होता है ? 

इस का जवाब भले ही सभी को पता होगा मगर ऐसे भी की लोग है जो ये नहीं जानते, मगर आज आपको यहा से पता चल जाएगा ।  

बैंक सभी को atm के साथ 4 डिजिट का कोड देता है जिसके मदद से हम atm कार्ड का इस्तेमाल करते है ओर पैसे निकलते है । 

हर बैंक हमे 4 atm कोड देता है जिसके मदद से हम इसका इस्तेमाल आसानी से कर सकते है । 

सायद आपके पास भी 4 डिजिट का atm कोड हो ओर आपको पता न हो तो आज आपको पता चल गया होगा । 

postal कोड कितने डिजिट का होता है ? 

भारत मे पोस्टल कोड की संख्या 6 है, ये हर जगह की अलग अलग होती है । ये बहुत ही आसान सवाल है जिसका जवाब सभी को पता होना चाइए । अब आपसे कोई भी पूछे तो जरूरत बताइएगा की पोस्टलकोड का 6 डिजिट होता है । 

atm पर कितने कोड होते है ? 

ये जवाब हलाकी सभी को पता होता है, मगर कुछ को नहीं – तो आज हम जनेगे की atm पर कितने कोड होते है । 

सबसे पहले तो atm का पर्सनल कोड होता है । उसके आलवा ccv कोड होता है, जो की 3 अंकों का होता होता है। सायद अपने देखा हो ? 

atm कार्ड को क्यू इस्तेमाल करते है ? 

सभी आज के युग मे atm कार्ड का इस्तेमाल पेमेंट करने के लिए करते है, इसके अल्वा atm machine से पैसे निकालने के लिए तथा पैसे डालने के लिए करते है । 

आप atm का इस्तेमाल किस चीज के लिए करते है ?

atm कार्ड होने के फाइडे क्या है ? 
  1. सबसे पहला फाइदा यह है की हम घर बैठे किसी को भी पैसे ट्रैन्स्फर कर सकते है । 
  2. घर बैठे हम अनलाइन किसी भी चीज को खरीद सकते है । 
  3. atm के जरिए हम पैसे निकाल सकते है । 
  4. atm के जरिए हम पैसे डाल सकते है । 
  5. atm के जरिए हम किसी को भी पेमेंट भेज सकते है । 
पोस्टल कोड अलग अलग क्यू होता है ? 

अलग अलग पोस्टल कोड के जरिए हम अलग अलग area का पता लगते है । जिससे हर जगह की पहचान बनती है, ओर हम अपना एरिया आसानी से ढूंढ सकते है । 

पोस्टल कोड की सुरुआत कब हुई थी ? 

हम पोस्ट ऑफिस का इस्तेमाल करते है मगर इसका इतिहास सभी को पता नहीं होता, मगर यह जानना बहुत जरूरी है । 

इसकी सुरुआत 5 अगस्त 1972 मे हुई थी । ओर उस वक्त सभी एरिया को seperate कोड दिया गया था । 

आशा हाई आपको ये आर्टिकल के माध्यम से pin पर सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा । बेहतर सुझाओ या  सवाल पूछने के लिए comment करे ।

अन्य उपयोगी फुल फॉर्म विषय हिंदी में :-

  1. UPI Full Form
  2. NCB Full Form
  3. Full Form FIFA