NGO का फुल फॉर्म क्या है? | NGO का परिभाषा और अर्थ in Hindi

NGO Ka Full Form in Hindi

आज के समय मे हमारे समाज मे बहुत से गरीब बच्चे, मजबूर और जरूरत न पूरी कर पाने लोग भरे पड़े हैं, सरकार बेसक उनकी मदद करती हैं, मगर NGO यहा बेहद अहम किरदार निभा रहा हैं, बिना किसी तरह के लालच। और छल के एनजीओ सबकी मदद करता हैं । 

सभी लोगों का सपना होता हैं की वो भी एनजीओ का सदस्य बने या एक एनजीओ की शुरुआत करे, मगर जानकारी और ठीक तरह से उसके काम का ज्ञान न होने की वजह से ये सपना अधूरा रह जाता हैं, इसलिए मैंने आज ये आर्टिकल उन सभी लोगों के लिए लिखा हैं जिन्हे NGO के बारे मे सब कुछ जानना हैं । 

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको एनजीओ का फुलफॉर्म, एनजीओ कैसे काम करता हैं, उसका क्या काम होता हैं, और आप कैसे एक एनजीओ की शुरुआत कर सकते हैं ये सभी जानकारी आपको इस आर्टिकल के माध्यम से मिल जाएगा । 

NGO का फूल फॉर्म क्या हैं?

सबसे पहले हम इसका फुल फॉर्म के बारे मे जान लेते हैं, NGO का फुल फॉर्म Non Governmental Organization होता हैं । 

इसके साथ हम अगर बात करे की NGO का हिन्दी मे मतलब क्या होता हैं, तो हिन्दी मे इसका मतलब गैर सरकारी संगठन होता हैं । 

NGO क्या हैं?

ये एक तरह का private organisation होता हैं, इसके द्वारा लोगों की अलग अलग तरह से मदद की जाती हैं, जैसे अनाथ बच्चों को पढ़ना, विदवा औरतों को सहारा देना, लोगों की सहायता करना आदि । 

एक लाइन मे कहे तो एनजीओ समाज कल्याण करता हैं । 

NGO का फुल फॉर्म
NGO का फुल फॉर्म

NGO काम कैसे करता हैं?

सब को लगता हियाँ एनजीओ कोई भी चला सकते हैं, मगर ऐसा बिल्कुल नहीं हैं। 

आप क्या सोचते हैं? 

NGO को कोई एक आदमी नहीं चलाता, इसे चलाने के लिए 7 या इस से ज्यादा लोग चाहिए होते हैं, एनजीओ किसी भी तरह से खुद के फाइडे के लिए नहीं होता, ये समाज के कार्य के लिए होता हैं । 

अगर किसी व्यक्ति का समूह समाज के कल्याण के लिए कुछ करना चाहता हैं तो वो ragistered या ragistered किए बिना भी कार्य कर सकते हैं, मगर registered करने पर सरकार की तरफ से आर्थिक सहायता मिलती हैं । 

इसके बावजूद अगर कोई समाज का कार्य करना चाहता हैं, तो वो बिना ragistered किए बिना भी कर सकते हैं, लगभग 1-2 लाख NGO भारत में हैं, सारे एनजीओ Central Societies Act के अंतर्गत आते है, मगर राजस्थान में Rajasthan Societies Act बना है। 

शायद अब आपको पता चल गया होगा की एनजीओ काम कैसे करता हैं। 

अन्य उपयोगी फुल फॉर्म विषय हिंदी में :-
  1. PIN Full Form
  2. UPI Full Form
NGO के कार्य क्या हैं?

जैसे की हमने जान ही लिया हैं की NGO का मतलब क्या हैं, उसी प्रकार एनजीओ के कार्य पर भी थोड़ा धेयन दे देते हैं, हम सबको पता चल गया हैं की एनजीओ समाज के कल्याण के लिए होता हैं । 

NGO का मुख्य कार्य समाज मे जितने भी गरीब बच्चे, बेसहारा, और वो सभी लोग जो समस्या का सामना करते हैं उन सभी को मदद करना हैं, समाज कल्याण और मनाओ कल्याण ही एनजीओ का पूर्ण मकसद हैं । 

समाज को एक उज्जवल भविष्य देना और समाज के सभी तरह के जरूरत को पूरा करना ही एनजीओ का मुख्य कार्य हैं। 

NGO का उद्देश्य 
  1. सभी गरीब अनाथ बच्चों को शिक्षा देना । 
  2. स्कूल के सभी बच्चों को अच्छा भोजन उपलब्ध कराना । 
  3. स्कूल के बच्चों को किताबें उपलब्ध कराना । 
  4. बेसहारा महिलाओं को आवास की सुविधा उपलब्ध कराना । 
  5. सभी जगह पर जल संवर्धन के कार्य । 
  6. सभी आदिवशी समाज मे समस्या का हाल करना । 
  7. अगर कोई भी समाज मे बीमार हैं तो उसकी मदद करना । 
  8. वृद्ध लोगों को हर मुमकिन मदद देना । 
  9. गाँव मे विकास करना । 
  10. हर तरह से समाज को संतुलित रखना । 
NGO के प्रकार 

अगर आपने सोचा हैं की एक एनजीओ की शुरुआत करें तो आपको इसके प्रकार के बारे मे जान लेना चाहिए । 

  • Bingo – Business Friendly International NGO

ये एक शॉर्ट टर्म हैं, Business Friendly International Ngo के उसे के लिए । 

  • Engo – Environmental NGO

Environmental NGO, एक Global 2000 के जैसे एक छोटा स्वरूप हैं । 

  • Gongo – Government-organized Non-governmental Organization

ये सरकार के द्वारा ऑपरैट किए जाने वाली एनजीओ हैं । 

  • Ingo – International NGO

Ingo Oxfam की तरह ही ये इंटरनेशनल एनजीओ का छोटा रूप हैं । 

  • Quango – Quasi-autonomous NGO

ये ISO जैसे एनजीओ को रिफर करता हैं । 

NGO कैसे बनाए?

तो अब हम जानेंगे की एनजीओ ngo कैसे बनाते हैं, अगर आप ngo बनाना चाहते हैं तो आपको इसके सभी नियम को समझना पड़ेगा, अलग अलग राज्य मे अलग अलग नियम हैं । 

एनजीओ मे काम करने के लिए आपको सदस्यता बनानी होगी, किसी एनजीओ के गठन के लिए 7 सदस्य की जरूरत होती हैं । 

सबसे पहले आप इसके लक्ष्य, उद्देश्य को तय कर ले, फिर  इसके अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, कोषाध्यक्ष, सलाहकार सदस्य आदि सदस्य तय कर ले, फिर एक एनजीओ का गठन करे । 

इसे शुरू करने से पहले आपको लोगों की समस्या को जानना होगा, इसके अनुसार ही आप का एनजीओ समाज मे कार्य कर सकते हैं । 

आप एक ऐसा समूह बनाए जिसमें लोगों को कार्य करने के लिए बेहतर Strategy हो, Financial Management, Human Resources, और Networking जैसे जीमेवारिया सही से ले सके। 

NGO केर लिए जरूरी document 

अगर आप एनजीओ को registered कर रहे हैं तो आपके पास ये document जरूर होना चाहिए । 

  1. Trust Deed/Memorandum Of Association
  2. Rules And Regulation/Memorandum
  3. Articles Of Association Regulation
  4. Affidavit From President
  5. Id Proof (Voter Id/ Aadhar Card)
  6. Residence Proof
  7. Registered Office Address Proof
  8. Passport (Mandatory)

अगर आप ngo की सुरुआत करने जा रहे हैं तब आपको ये सभी ducument की जरूरत पड़ेगी । 

इसके साथ ही अगर आप कोई बैंक अकाउंट एनजीओ के नाम से खोलना चाहते हैं तो आप को pan card की जरूरत पड़ेगी, बैंक अकाउंट की जरूरत डोनैशन के वक्त पड़ती हैं । 

NGO registered कैसे करे?

अगर आप इंडिया मे NGO start करना चाहते हैं तो ये 3 तरीके हैं, आप इसमें किसी भी मेथड से एनजीओ खोल सकते हैं । 

  • Trust Act

ये भारत के अलग अलग राज्यों मे होती तो हैं मगर इसका trust अधिनियम नहीं हैं, इसलिए 1882 Trust Act लागू होता हैं, इस नियम के अनुसार कम से कम 2 trustee होना जरूरी हैं । 

  • Society Act

इस एक्ट के माध्यम से NGO को Society के रूप में Register किया जाता है। मगर कुछ राज्य मे जैसे maharashtra मे Society Act के तरह एनजीओ को ट्रस्टी के रूप मे registered किया जाता हैं । 

  • Companies Act

इसके तरह registered करने के लिए एनजीओ को Memorandum And Articles Of Association And Regulation Document की जरूरत होती है।

ये सभी डाक्यूमेन्ट को बनाने ले लिए किसी भी तरह का stamp paper की जरूरत नहीं पड़ती, बस 3 सदस्यों का होना जरूरी हैं । ये 3 एक्ट के माध्यम से आप ngo की शुरुआत कर सकते हैं । 

NGO को फंड कैसे मिलता हैं?

अगर आपने एक ngo की शुरुआत की हैं, मगर आप नहीं जानते की इसकी funding कैसे करे तो मैंने कुछ पॉइंट के माध्यम से इसे बताने की कोशिश की हैं । 

  • Create Ngo Website

आपका एक NGO का website होना चाहिए, जिस पर आप NGO के रिलेटेड सभी जानकारी दे, सभी उद्देश्य और कार्य को बताएं, लोगों से जुड़े, और अपने वेबसाइट पर donation account बनाए जिससे आपको आर्थिक मदद मिलेगी । 

  • Organizing Program

आप एक प्रोग्राम भी organised कर सकते जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को आपके ngo के बारे मे पता चले, प्रोग्रम ऐसा हो की लोग आपको आर्थिक मदद करने के लिए तत्पर हो जाए, आप किसी डॉक्टर, नेता, celebrity को बुला सकते हैं ताकि लोग आपसे ज्यादा जुड़े । 

  • Govt Funds

अगर आपका registered ngo हैं तब आपको सरकार की तरफ से आर्थिक मदद मिलेगी, इसके लिए आपको कुछ रूल एंड रेग्युलेशन का पालन करना होगा । 

  • Contact Private Companies

बहुत सारे private कंपनी  अपने समाजसेवी कार्य करने हेतु छोटे-छोटे NGO को Donation देती है, आप भी उन से contact कर सकते हैं, आप उन्हें मेल सेंड कर सकते हैं, वो आपकी आर्थिक मदद करते हैं ।

  • सम्मन फाउंडेशन
  • गूंज
  • मुस्कान फाउंडेशन
  • उदय फाउंडेशन
  • LEPRA सोसायटी
  • सरगम संस्था
  • कर्मयोग
  • अक्षय ट्रस्ट
  • प्रथम
  • उदय कल्याण फाउंडेशन

दोस्तों आशा करता हू आपको इस आर्टिकल के माध्यम से सभी सवालों का जवाब मिल गया होगा, फिर भी किसी प्रकार का कोई समस्या आती हैं, तो comment जरूर करे । जय हिन्द ।

अन्य उपयोगी फुल फॉर्म विषय हिंदी में :-
  1. NCB Full Form
  2. Full Form FIFA

Leave a Reply