ATM का फुल फॉर्म क्या है? | ATM परिभाषा और अर्थ

हम अक्सर ATM का इस्तेमाल करते हैं, पैसा निकालने और भेजने का बहुत ही आसान सा साधन हैं, पर हम ATM का फुलफॉर्म नहीं जानते या जानते भी हैं तो गलत, इसी कारण से मैं आज ये आर्टिकल आपके लिए लिख रहा हु ताकि आपको ATM का फुलफॉर्म और उसके बारे मे जानकारी प्राप्त हो पाये । 

पूरी जानकारी के लिए इस आर्टिकल को ध्यान से पढिए, मुझे पूरा उम्मीद हैं आपको सारा ज्ञान यही से मिल जाएगा। 

ATM का फुलफॉर्म क्या हैं? 

सबसे पहले हम ATM का फुलफॉर्म को देखते हैं, हम अक्सर सोचते हैं की ATM का फुलफॉर्म any time money हैं, मगर ये गलत हैं, ATM का फुलफॉर्म होता हैं – Automated Teller Machine

उम्मीद करता हू अब आपको ATM का फुलफॉर्म पता चल गया होगा । 

ATM क्या होता हैं? 

ये एक तरह का electronic communication machine हैं, जिसका हम इस्तेमाल अपने बैंक account के पैसे लेन देन के लिए किया जाता हैं । अगर आसान भाषा मे कहे तो ये एक ऐसा मशीन हैं जहा से आप पैसे निकाल सकते हैं अपने bank account के बिना बैंक मे जाए । 

ATM Full Form in Hindi
ATM Full Form in Hindi

ATM का अविस्कार किसने किया था? 

ATM का अविस्कार 1960 मे जॉन शेफर्ड-बर्रोंन ने किया था । 

ATM का फुलफॉर्म हिन्दी मे क्या हैं? 

ATM के बारे मे जानकारी मे इसका हिन्दी मे मतलब बहुत जरूरी हैं । इसका हिन्दी मे फुलफॉर्म होता हैं – स्वचालित टेलर मशीन । 

ATM काम कैसे करता हैं? 

जब हमे बैंक से अपने बैंक अकाउंट का ATM CARD मिलता हैं, तब उसके ऊपर एक पट्टी लागि रहती हैं जो हमारे बैंक अकाउंट के information को बताता हैं । 

जब हम ATM मशीन मे अपना ATM CARD डालते हैं तब उशी पट्टी से हमारे बैंक अकाउंट के information ATM रीड करता हैं । और आप अपने बैंक अकाउंट से रिलेटेड सभी जानकारी वहा से प्राप्त कर सकते हैं साथ ही आप अपना किसी को भुक्तन भी कर सकते हैं, और अपने बैंक मे जमा पैसा भी निकाल सकते हैं । 

ATM के मुख्य भाग (parts) क्या हैं? 

मुख्यत इसमे दो प्रकार के उपकरण लगे रहते हैं जो user को इसका इस्तेमाल करने मे मदद करती हैं वो हैं – 

  1. INPUT DEVICE 
  2. OUTPUT DEVICE 

INPUT DEVICE 

  • CARD READER – इसके मदद से बैंक होल्डर के बैंक डीटेल को ATM रीड करता हैं, बैंक के द्वारा दिए गए ATM CARD के पीछे एक पट्टी होती हैं उसी को हम magnetic strip भी कहते हैं, वही हमारे इनफार्मेशन को ATM मशीन को देता हैं ताकि सारी आगे की प्रक्रिया हो सके । 
  • KEYPAD – KEYPAD को बाकी की प्रक्रिया को करने मे मदद करती हैं, जैसे PIN डालना, amount डालना, cancel, clear, enter जैसे अनुमति प्रदान करने के लिए होता हैं । 

OUTPUT DEVICE

  • SCREEN  – ये information को देखने के लिए होता हैं, जिसमे बैंक के इनफार्मेशन, available balance, process यदि सभी को दरसता हैं । जो की user के लिए सभी प्रकार के सुबिध को आसान बनाता हैं । 
  • SPEAKER – बैंक के ATM मे स्पीकर होते हैं ताकि इनफार्मेशन यदि को सही से user तक पहुचा सके । 
  • CASH DISPENSER – इसका इस्तेमाल हम पैसा निकालने के लिए करते हैं । 
  • RECEIPT PRINTER – आपके लेन देन से संबंधित जानकारी होती हैं, जिसमे शेष राशि, निकशी राशि, date, समय, यदि लिखे रहते हैं । 
ATM के प्रकार 

अगर बात करे की ATM के प्रकार कितने और क्या हैं तो हम देखते हैं की, इसमे बहुत से आते हैं जो नीचे मैंने बताने की कोसिस की हैं । 

ONLINE ATM – ये ATM बैंक के database से 24 घंटे जुड़ा रहता हैं, जिसमे से आप मोजूद राशि आसानी से निकाल सकते हैं । 

OFFLINE ATM – ये बैंक के डेटाबेस के साथ जुड़ा नहीं रहता हैं । इसमे अगर आपके बैंक मे आवश्यक राशि नहीं हैं, तब भी आप इससे निकाल पायेगे, बैंक कुछ जुर्माना लगाती हैं । 

ONSITE ATM – बैंक साइट के अंदर मोजूद ATM को ONSITE ATM के रूप मे जाना जाता हैं । 

OFFSITE ATM – बैंक परिसर के अंदर विभिन आस्थानों पर स्थित ATM को ऑफलाइन एटीएम के रूप मे जाना जाता हैं । 

WHITE LABEL ATM – नॉन बैंकिंग फाइनैन्शल कंपनी द्वारा आस्थापित किए गए ATM को व्हाइट लेबल एटीएम कहते हैं । 

YELLOW LABEL ATM – ये E-COMMERCE के लिए इस्तेमाल किया जाता हैं । 

BROWN LABEL ATM – इस तरह का ATM एक service provider का ओनर्शिप होता हैं, मगर banking network के cash management और कानेक्टिविटी के लिए बैंक अनुमति प्रदान करता हैं । 

ORANGE LABEL ATM – इसका इस्तेमाल share transaction के लिए किया जाता हैं । 

PINK LABEL ATM – ये केवल महिलावों के लिए होता हैं । 

GREEN LABEL ATM – इस तरह का ATM कृषि के लेनदेन के लिए प्रदान किया जाता हैं । 

ATM के बारे मे रोचक तथ्य । 
  • इसका आविष्कार जॉन शेफर्ड-बर्रोंन ने किया था । 
  • ATM के बनाते वक्त जॉन शेफर्ड-बर्रोंन ने 6 डिजिट का पासवर्ड रखने का सोच था मगर उनकी बीवी के लिए इसे याद रखना मुश्किल था इसलिए 4 डिजिट का पासवर्ड रखा गया । 
  • केरल मे दुनिया का सबसे पहला floating एटीएम हैं । 
  • 1987 मे HSBC द्वारा भारत का पहला ATM स्थापित किया गया । 
  • 27 जून 1967 को london के Barclays Bank मे दुनिया का सबसे पहला एटीएम स्थापित किया गया । 
  • रेग वर्नी ने सबसे पहले एटीएम से cash निकालने वाले व्यक्ति थे । 
  • रोमानिया मे कोई भी इंसान बिना बैंक अकाउंट के ATM से पैसे निकाल सकता हैं । 
  • ब्राजील मे biometric का इस्तेमाल किया जाता हैं पैसे निकालने से पहले । 
ATM के अन्य फुलफॉर्म क्या हैं? 
ATMAir trafic management
ATMAsynchronous transfer mode 
ATMAssociation of teacher of mathematics
ATMAngkatan Tentera malaysia 

दोस्तों आज हमने जाना की ATM का फुलफॉर्म क्या हैं और इसके साथ ही हुमने इसके बारे मे अन्य जानकारी भी देखी, अगर आपको कोई समस्या हैं तो आप comment कर सकते हैं । 

अगर आपको लगता हैं की ये इनफार्मेशन दूसरों तक भी पहुचनी चाहिए तो इसे share जरूर करे । जय हिन्द । 

अन्य उपयोगी फुल फॉर्म विषय हिंदी में :-

  1. PIN Full Form
  2. UPI Full Form
  3. NCB Full Form
  4. Full Form FIFA

Leave a Reply